Wednesday, 27 November 2019

लहंगा उठाकर चुदी विदेशी लंड से (Lahnga Uthakar Chudi Videshi Lund Se)

By
दोस्तो, मैं सपना जैन एक बार फिर से हाजिर हूं एक नई कहानी लेकर.
में मैंने आपको बताया था कि कैसे मेरे टीचर ने मेरी गांड मार ली थी. वह मेरी पहली गांड चुदाई की कहानी थी.
इस कहानी में मैं आपको आगे की घटना बताने जा रही हूं. मेरी जवानी की नई शुरूआत थी. मेरी गांड चुदाई का मजा जतिन सर और उनके दोस्त भी ले रहे थे. मुझे भी अपनी गांड को चुदवाने में मजा आ रहा था. चुद-चुद कर मेरी गांड काफी सेक्सी हो गयी थी. वो हर दो दिन में मेरी गांड को चोद कर अपने लंड को शांत कर लेते थे.

एक दिन मेरी कज़िन बुआ मेरे घर पर आई हुई थी. वो उम्र में मेरे से 2 साल बड़ी है. मैं उसको दीदी कह कर ही बुलाती हूं.

मेरी दीदी काफी भरे हुए बदन की है. उसकी चूचियां भी काफी मोटी हैं. उनको देख कर किसी का लंड भी खड़ा हो सकता है.

उस दिन मेरी और उनकी फैमिली को एक फंक्शन में जाना था. हम लोग 3 दिन के लिए जा रहे थे. मुझे अपनी क्लास के लिए जाना था इसलिए मैंने फंक्शन में जाने से मना कर दिया.

मेरे मना करने के बाद मेरी दीदी भी मेरे साथ ही रुक गयी. घरवालों के जाने के बाद हम दोनों ही घर पर रह गयी थीं. सुबह 11 बजे तक हमने खाना खा लिया था.

उसके बाद हम दोनों एक दूसरे के साथ गप्पें मारने लगीं. कुछ देर तक बातें करने के बाद मुझे नींद आने लगी. मैं अपने रूम में जाकर सो गयी. दीदी हॉल में ही लेटी रही.

मेरी दीदी इससे पहले भी हमारे घर पर आ चुकी थी. उनको हमारे आस-पड़ोस के बारे में भी सब कुछ पता था. वो हमारे पड़ोसियों के साथ भी कई बार बातें कर लिया करती थी.

मैं अपने कमरे में लेटी हुई थी कि दीदी मेरे पास आई और बोली कि वो पड़ोस वाली आंटी के यहां जा रही है.
मैंने कह दिया कि बाहर से कुंडी लगा देना. मुझे नींद आ रही है. बाद में मैं उठ कर दरवाजा नहीं खोलूंगी.

दीदी बाहर से कुंडी लगा कर चली गई. मुझे नींद आ गयी थी. फिर मुझे दरवाजे पर कुंडी खड़कने की आवाज सुनाई दी. मेरी नींद टूट गयी थी मगर मैं लेटी रही.

फिर मुझे सुनाई दिया कि शायद कोई कुछ खुसर फुसर कर रहा है. कुछ देर तो मैं लेटी रही. जब वो आवाज़ दो-तीन बार मेरे कानों में आती रही तो मैंने चुपके से उठ कर देखा.

दरवाजे के पास ही दीदी और दूधवाला एक दूसरे को किस कर रहे थे. मैं एकदम से चौंक गयी. मगर मैं एक तरफ छुपी रही.

मैंने देखा कि दूधवाला जोर से दीदी के बूब्स को दबा रहा था. दीदी के मुंह से मजे के साथ दर्द भरी कराहटें भी निकल रही थीं. मगर वो जैसे आवाज को दबाते हुए कह रही थी- आराम से करो … आह्ह … दर्द हो रहा है.

दूधवाले ने धोती पहनी हुई थी. उसका लंड उसकी धोती में भी उठा हुआ दिखाई पड़ रहा था. फिर दीदी ने उसके लंड को उसकी धोती के ऊपर से पकड़ लिया.

अब दूधवाले ने दीदी को साथ में ही सोफे पर गिरा लिया. उसकी कमीज को ऊपर कर दिया. वो जैसे भूखे कुत्ते की तरह दीदी की चूचियों को खाना चाह रहा था. उसने दीदी के कमीज को ऊपर करके उसकी ब्रा को भी ऊपर चढ़ा दिया. दीदी की मोटी चूचियां बाहर निकल आईं. वो उनको हाथ में लेकर जोर से दबाने लगा.

दूधवाले के काले से हाथ दीदी की गोरी चूचियों को मसल रहे थे. फिर उसने दीदी की सलवार को भी खोल दिया. उसने उसकी चड्डी को खींच कर दीदी की चूत को नंगी कर दिया.

वो दीदी की चूत को चाटने लगा. दीदी पागल सी होने लगी. वो दूधवाले के मुंह को अपनी चूत में दबाने लगी. फिर एकदम से उठकर दूधवाले भैया ने अपनी धोती खोल दी. उसका लंड काफी बड़ा था. एकदम काला लंड था, सांप के जैसा.

उसने दीदी की टांगों को दोनों हाथों से पकड़ कर उसकी चूत में लंड को रख दिया. फिर उसने धक्का दिया तो उसका लंड दीदी की चूत में घुस गया. दीदी के मुंह से उम्म्ह… अहह… हय… याह… निकल गयी. फिर वो दीदी की चूत को चोदने लगा.

इन दोनों की चुदाई देख कर मेरी चूत में भी पानी आना शुरू हो गया. मैं भी मजा लेकर सामने का नजारा देखने लगी.

पांच मिनट के अंदर ही दीदी की चूत में उसने अपने लंड को खाली कर दिया. उसके बाद वो उठा और जल्दी से अपनी धोती पहन कर खड़ा हो गया.

दीदी ने भी अपने कपड़े ठीक किये और सामान्य होते हुए दरवाजा खोल दिया. मैं हैरान थी कि पांच मिनट के अंदर ही दीदी ने अपनी चूत दूधवाले से चुदवा ली.

उसके जाने के बाद मैं बाहर आ गयी. मुझसे रहा न गया और मैंने दीदी से पूछा- दूधवाले के साथ क्या कर रही थीं आप?
वो बोली- ओह्ह, तो तूने देख लिया.
मैंने कहा- हां.

वो बोली- तो मैंने गलत क्या किया, वो मर्द था और मैं एक जवान लड़की. उससे चूत चुदवा ली तो क्या बुरा किया.
मैंने कहा- लेकिन दूधवाले से?
वो बोली- है तो वो भी मर्द ही. उसके पास भी वही सामान है जो बाकी मर्दों के पास होता है. लेकिन कुछ खास मजा नहीं आया.

मैंने हैरानी से पूछा- तो फिर कैसे मर्द पसंद हैं आपको?
उसने अपना फोन निकाला और उसमें कुछ वीडियो दिखाने लगी.
मैंने देखा कि दीदी के फोन में पोर्न सेक्स वीडियो थी. उसमें एक विदेशी लड़का था जो इंडियन देसी गर्ल की चुदाई कर रहा था.

उसको देखते-देखते मुझे भी मजा आने लगा. उस लड़के का लंड सच में बहुत मोटा और लम्बा होने के साथ ही देखने में भी अच्छा था.
दीदी बोली- मुझे ऐसे ही लंड लेना पसंद है.
मैंने कहा- तो क्या आप कॉल गर्ल का काम करती हो?
वो बोली- नहीं, मैं किसी के बुलाने पर नहीं जाती. मैं तो अपनी मर्जी से जाती हूं. बस मजे लेने के लिए.

मैंने कहा- तो फिर वहां पर कैसे क्या होता है?
दीदी बोली- वहां पर अगर तुम्हारे साथ कोई सेक्स करता है तो उसके साथ मजा तो मिलता ही है, साथ में कई सारे गिफ्ट्स भी मिलते हैं.
फिर दीदी ने बताया- मेरे जूते देखे. ये सब इम्पोर्टेड हैं. मुझे किसी ने गिफ्ट किये थे.

अभी भी मैं पोर्न वीडियो देख रही थी.
दीदी बोली- तूने पहले किया है क्या सेक्स?
मैंने कहा- नहीं, चूत में तो नहीं डलवाया है लेकिन पीछे कई बार करवाया है.
दीदी बोली- तो फिर तेरी डिमांड तो बहुत ज्यादा है.

वो बोली- ट्राई करना चाहोगी?
पोर्न वीडियो देखते हुए मैं गर्म हो गयी थी. मैंने कहा- हां, मैं भी चलना चाहती हूं.
दीदी बोली- ठीक है. रात को चलेंगे.

उसके बाद हम लोग घर के काम निपटाने में लग गयीं. फिर मैंने दोबारा से दीदी के फोन में पोर्न वीडियो देखे. फिर शाम हो गयी. उसके बाद हम लोग तैयार होने लगीं.

हमने घर को लॉक कर दिया और हम लोग निकल गये. दीदी मुझे एक होटल में लेकर गयी. होटल के बेसमेंट में एक बार था. वहां पर हम लोग गये. सब लोग वहां पर मस्ती कर रहे थे.

वहां पहुंच कर दीदी ने कहा कि सामने ड्रिंक रखे हुए हैं. तुम जाकर ड्रिंक ले आओ. मैं दो ड्रिंक लेकर आ गयी.
दीदी बोली- अब ऐेश कर. यहां पर खुद लोग तेरे पास चलकर आयेंगे. जिसके साथ तेरा जाने का मन हो तो चली जाना.

फिर हम लोग ड्रिंक करने लगी. मैं पहली बार ड्रिंक कर रही थी. मैंने एक घूंट भरी तो मुझे उल्टी सी लगने लगी.
दीदी बोली- अरे पी ले, जब तेरी चूत में लंड जायेगा तो दर्द का पता भी नहीं चलेगा.

हमने ड्रिंक खत्म कर लिया. उसके बाद एक गोरा सा लड़का दीदी के पास आया और उनको लेकर एक तरफ चला गया. मैं अब अकेली सी रह गयी थी. मगर ड्रिंक का सुरूर होने लगा था.

दो मिनट के बाद एक अच्छा सा लड़का मेरे पास आया और बोला- मुझे इंडियन गर्ल फर्स्ट नाइट की तरह करना है. (उसका मतलब सुहागरात की चुदाई से था)
मैं ज्यादा होश में नहीं थी. वैसे भी मैं वहां पर अपनी चूत चुदवाने का पहला अनुभव लेने गयी थी. वो देखने में भी अच्छा था. मैं उसके साथ जाने के लिए तैयार हो गयी.

उससे बात होने के बाद होटल की दो लड़कियां मुझे अपने साथ में ले गयीं. वो मुझे एक रूम में ले गयीं. उन्होंने मुझे लहंगा चोली पहना कर दुल्हन की तरह तैयार किया.

मैं उस होटल के कमरे में गोरे विदेशी के लिए दुल्हन की तैयार होकर बैठी हुई थी. कुछ देर के बाद वो लड़का भी कमरे में आ गया. वह बेड पर आकर मेरे पास बैठ गया. उसने मेरा घूंघट उठाया तो मैं शरमा रही थी.

उसके बाद वो अपनी शर्ट खोलने लगा. उसकी चेस्ट काफी सेक्सी लग रही थी. अपनी शर्ट को उतार कर उसने एक तरफ डाल दिया. फिर मेरी जूलरी को उतारने लगा.

सारी जूलरी उतारने के बाद उसने मेरे दुल्हन के जोड़े को खोलना शुरू किया. पांच मिनट में उसने मुझे पूरी नंगी कर दिया था. उसके बाद उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और मेरे पूरे बदन को किस करने लगा.

मैं भी उसका साथ देने लगी. वो मेरे होठों को चूसने लगा और मेरी चूचियों को पीने लगा. मेरी चूत को अपने हाथ से सहलाने लगा. मैं गर्म होने लगी थी. मुझे काफी अच्छा लग रहा था.

उसके बाद उसने अपनी पैंट खोल दी. पैंट को खोल कर उसने निकाल दिया. उसके अंडरवियर में उसका सांप अपने पूरे आकार में दिखाई दे रहा था. फिर उसने अपने अंडरवियर को भी उतार दिया.

अंडरवियर को उतार कर वह मेरे सामने बिल्कुल नंगा हो गया. मैंने देखा कि उसका लंड काफी बड़ा था. मैंने अभी तक केवल भारतीय मर्दों के लौड़े ही देखे थे. पहली बार उस दिन मैंने एक विदेशी गोरे के लंड को देखा. उसका लंड का रंग भी गोरा था. लाल चमड़ी वाला. साइज़ भी वैसा ही था जैसा मैंने पोर्न सेक्स वीडियो में देखा था.

फिर वो मेरी टांगों को अपनी जांघों पर रख कर मेरी चूचियों को दबाने लगा. मैं मस्ती में मदहोश होने लगी. उसका लंड मेरी चूत पर आकर लग रहा था. मुझे मजा आ रहा था.

मैं बहुत गर्म हो गयी थी. मैंने उठकर उसके लंड को पकड़ लिया. उसका लंड पोर्न मूवी के जितना मोटा था. मैंने उसके लंड को हाथ में लेकर देखा. फिर मैंने उसके लंड को चूसना शुरू कर दिया.

मजा लेते हुए मैं उसके लंड को मस्ती में चूसने लगी. कुछ देर तक मैं उसके लंड को चूसती रही. फिर उसने मुझे दोबारा से लिटा दिया. उसने मेरी चूत में उंगली करना शुरू कर दिया. मेरी चूत गीली हो चुकी थी.

फिर उसने मेरी चूत में जेली (क्रीम) लगाई. जब वो मेरी चूत पर जेली लगा रहा था तो मुझसे कंट्रोल करना मुश्किल हो रहा था. उसके बाद वो मेरी चूत पर लंड को लगाने लगा.

उसने मेरी चूत पर लंड को लगाकर धक्का दिया. दो-तीन धक्के देने के बाद भी उसका लंड अंदर नहीं जा रहा था. उसके बाद उसने अपने लंड पर भी जेली लगाई. लंड को पकड़ कर मैंने अपनी चूत पर सेट करवाया. जब लंड सेट हो गया तो उसने धक्का दिया. उसका लंड चीरता हुआ मेरी चूत में घुस गया. मैं एकदम से चिल्ला उठी.

मैंने उठ कर देखा तो मेरी चूत से खून आ रहा था. उसने मुझे दोबारा से पीछे धक्का देकर लिटा दिया. वो फिर से मेरी चूत में धक्के लगाने लगा. उसके बाद उसने मेरी चूत में धक्के लगाते हुए मेरी चूत चुदाई शुरू कर दी.

उसने मेरे हाथों को पकड़ लिया था. मेरी चूत में दर्द हो रहा था. मेरी चूत पूरी खुल गयी थी. फिर उसने लंड को बाहर निकाला और मेरी चूत को साफ करने लगा. चूत को साफ करने के बाद उसने टिश्यू से अपने लंड को भी साफ़ किया.

मेरे हाथ में उसने दोबारा से लंड दे दिया. मैंने उसके लंड को फिर से खड़ा कर दिया. फिर वो चूत में दोबारा लंड घुसाने लगा तो मैंने कहा कि वीर्य को अंदर ना गिराये. उसने मेरी चूत में एक कैप लगा दी. वो बोला कि अगर गलती से निकल भी गया तो अंदर तक नहीं जा पायेगा.

उसके बाद वो फिर से मेरी चूत को चोदने लगा. अब मैं भी उससे लिपट गयी. वो मेरी चूत को जोर से चोद रहा था. जब उसका लंड मेरी चूत में अंदर रगड़ता हुआ जा रहा था तो मुझे भी बहुत मजा आ रहा था. मेरी चूत पहली बार चुद रही थी.

उस गोरे लड़के का दम बहुत ज्यादा था. वो जतिन सर से भी ज्यादा दम लगा कर मेरी चुदाई कर रहा था. मैं दर्द के मारे फिर से चिल्लाने लगी थी.

फिर उसने एकदम से लंड को बाहर निकाल लिया और मेरे मुंह में लंड को दे दिया. मैं उसके लंड को चूसने लगी. एकदम से उसके लंड से माल निकलने लगा. मैं उसके गर्म माल को अपनी जीभ पर महसूस कर रही थी.

विदेशी लंड का वीर्य चखने में बहुत अच्छा लग रहा था. वो काफी स्वादिष्ट सा था. मैंने उसके वीर्य को टेस्ट किया. फिर उत्तेजना में मैं उसके माल को अंदर ही गटक गयी.

वीर्य निकाल कर वो मेरी बगल में ही लेट गया. मैं भी उससे लिपट गयी. घंटे भर के बाद मेरा दर्द कम हुआ. मैंने उसके लंड को फिर से पकड़ लिया और हिलाने लगी.

कुछ ही देर में उसका लंड फिर से खड़ा हो गया. उसने मुझे अब दोबारा से लहंगा पहनने के लिए कहा. फिर वो नीचे लेट गया. उसके बाद मैं उसके लंड के ऊपर बैठ गयी.

अब एक बार फिर से वो मेरी चूत में लंड को नीचे से धकेलने लगा. मैं भी उसके लंड पर बैठ कर कूदने लगी.

कुछ देर तक उसने इसी पोजीशन में मेरी चूत को चोदा. फिर उसने मुझे नीचे पटक लिया. मुझे घोड़ी बना दिया. पीछे से लंड को घुसाने लगा. वो मेरी चूत को जोर से चोदने लगा. मैं भी मजा लेकर चुद रही थी.

उसने दस मिनट तक मेरी चूत की चुदाई की और फिर मुझे सीधी होने के लिए कहा. मैं जैसे ही लेटी तो उसने मेरी चूत पर लंड को लगा दिया. मगर अंदर नहीं डाला.

वो मेरी चूत पर लंड को लगाकर रगड़ने लगा. मैं मदहोशी में थी. उसने फिर अपने लंड की मुठ मारना शुरू कर दिया और एकदम से उसके लंड से माल की पिचकारी निकल कर मेरे पेट पर गिरने लगी. उसका सफेद गाढ़ा माल मेरे पेट पर फैल गया.

हम दोनों थक गये थे. फिर हम एक दूसरे से चिपक कर सो गये.

आधी रात के करीब वो फिर से उठा. उसने मेरे घाघरे को ऊपर कर दिया. उसने अपने लंड को मेरी गांड में लगा दिया. इतने में ही मेरी नींद खुल गयी थी. तब तक उसने लंड को अंदर धकेल दिया. मेरी गांड को चीरता हुआ उसका लंड अंदर घुस गया. एक बार तो मुझे बहुत जोर का दर्द हुआ लेकिन फिर मजा आने लगा.
मैं कहने लगी- आह्ह … फक मी… (चोदो मुझे)।

उसका लंड मेरी गांड के इतने अंदर चला गया था कि जितना जतिन सर का भी नहीं गया था. वो मेरी गांड में लंड को पेलता रहा. दस मिनट के बाद उसने मेरी गांड में ही वीर्य गिरा दिया.

मुझे सीधा किया और मेरी चूत पर लंड रख कर सो गया. सुबह जब उठे तो उसने मुझे उठाया और फिर मुझे दीवार के साथ लगा दिया. मेरे घाघरे को ऊपर उठा दिया.

उसने मेरी चूत में लंड को घुसेड़ दिया और चोदने लगा. मैं भी उससे लिपट कर चुदने लगी. फिर उसने मुझे घुमा दिया. पीछे से मेरी गांड को भी चोदा और फिर मेरी कमर पर अपना माल गिरा दिया.

इतने में ही दीदी मुझे बुलाने के लिए रूम में आयी. उसने मेरी दीदी को भी अंदर खींच लिया. उसके बोबे दबाने लगा. उसको नंगी कर दिया और उसकी चूत को पेलने लगा.

थोड़ी ही देर में वो दीदी की चूत के अंदर ही झड़ गया. मैंने दीदी से कहा- ऐसे तो आप प्रेग्नेंट हो जाओगी.
वो बोली- नहीं, मैंने पहले से ही कैप लगाया हुआ था.

फिर हम दोनों ने अपने कपड़े पहने और जब मैं जाने लगी तो उस लड़के ने मुझे एक महंगी वॉच गिफ्ट की.
उसके बाद हम लोग घर आ गये. घर आकर दीदी और मैंने एक दूसरे के साथ अपना एक्सपीरियंस शेयर किया.

हमारे घरवाले तीन दिन के बाद आये. तीनों दिन मैंने अपनी चूत चुदवाई और मेरे पास काफी सारे गिफ्ट्स हो गये.
दोस्तो, मेरी चूत चुदाई का पहला एक्सपीरियंस आपको पसंद आया? तो मुझे मेल करके या कमेन्ट ककरे बतायें. मैं आपके मैसेज का इंतजार करूंगी.

2 comments:

Banner4

Followers